यातायात नियमों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हुआ कार्यक्रम, जानिए किस किस ने की सहिभागिता।

0
132

यातायात नियमों के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए आईएमएस ने किया प्रतियोगिता का आयोजन

नोएडा। इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (आईएमएस) नोएडा में सड़क सुरक्षा जागरूकता प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। सेक्टर 62 स्थित संस्थान परिसर में आयोजित कार्यक्रम के दौरान छात्रों ने भाषण, पोस्टर मेकिंग एवं क्विज प्रतिस्पर्धा में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। वहीं कार्यक्रम के दौरान छात्रों को यातायात नियमों की जानकारी भी दी गयी।

आपको बता दें कि प्रत्येक वर्ष नवम्बर माह को सड़क सुरक्षा माह के रूप में मनाया जाता हैं जिसमें विभिन्न कार्यक्रम के माध्यम से लोगों को यातायात नियमों से अवगत कराया जाता हैं इसी क्रम में आज नोएडा के सेक्टर -62 स्थित आई एम एस कॉलेज में सड़क सुरक्षा से सम्बंधित कार्यक्रम की शुरुआत की गई जिसमें आईएमएस की निदेशिका डॉ. कुलनीत सूरी ने कहा कि सड़क पर होने वाली दुर्घटनाओं की मुख्य वजह लोगों द्वारा सड़क यातायात नियमों और सड़क सुरक्षा उपायों की अनदेखी है। उन्होंने कहा कि गलत दिशा में बाइक चलाना, सड़क सुरक्षा नियमों और उपायों में कमी, तेज गति, नशे में गाड़ी या बाइक चलाने आदि के कारण सड़क दुर्घटनाएं ज्यादा होती हैं।

वहीं संस्थान के डीन डॉ. अजय कुमार गुप्ता ने बताया कि दुपहिया वाहन चालको को बिना हेलमेट के यात्रा नहीं करनी चाहिए। साथ ही हमें सुरक्षित यात्रा के लिए सभी नियमों और नियंत्रकों का पालन करना चाहिए। इस दौरान उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा के नियमों की अनदेखी करना हम सब के लिए सबसे अधिक खतरनाक हैं और यही कारण है हमारे देश में प्रतिदिन 400 से अधिक लोगों की जानें जाती हैं। इसलिए हमें हमेशा यातायात नियमों का पालन करते हुए वाहन का संचालन करना चाहिए क्यों प्रत्येक व्यक्ति का जीवन अनमोल हैं।

आईएमएस द्वारा आयोजित आज के सड़क सुरक्षा जागरूकता प्रतियोगिता की संयोजन बर्षा छबारिया ने बताया कि संस्थान की ओर से छात्रों के लिए आज भाषण, पोस्टर मेकिंग एवं क्विज प्रतिस्पर्धा का आयोजन किया गया। जिसमें क्विज प्रतिस्पर्धा में कार्तिक, भाषण प्रतिस्पर्धा में अनिकेत एवं पोस्टर मेकिंग में आर्यन ने प्रथम पुरस्कार अपने नाम किया। वहीं क्विज में नीरज एवं डायमंड को क्रमशः दूसरे एवं तीसरे, भाषण में फहाद एवं सप्तऋषि और पोस्टर मेकिंग में काजल एवं लक्ष्य को क्रमशः दूसरे एवं तीसरे पुरस्कार के लिए चुना गया।