साइबर क्राइम टीम ने गैंग के सरगना सहित सात ठगों को गिरफ्तार कर भेजा जेल, जानिए आखिर किस तरह की ठगी को देते थे अन्जाम?

0
74

नोएडा साइबर क्राइम टीम ने गैंग के सरगना सहित सात ठगों को किया गिरफ्तार।

नाइजीरियन गैंग को किराये व कमीशन पर बैंक खाता उपलब्ध कराने व फर्जी आधार कार्ड बनाने का करते थे काम।

कस्टम ड्यूटी, आरबीआई एक्सचेंज व जीएसटी के नाम पर नाइजीरियन गैंग 100 करोड़ की कर चूका हैं ठगी।

नोएडा – साइबर क्राइम नोएडा ने एक ऐसे गैंग के सरगना सहित सात ठगों को जनपद – बदायूं, गौतमबुद्ध नगर व नई दिल्ली से गिरफ्तार किया हैं। जो फेसबुक पर फर्जी आईडी के माध्यम से ब्रिटिश महिला मित्र बनकर दोस्ती करके कस्टम ड्यूटी, आर बी आई एक्सचेंज व जी एस टी के नाम पर 100 करोड़ की ठगी करने वाले नाइजीरियन गैंग को किराये व कमीशन पर बैंक खाता उपलब्ध कराने व फर्जी आधार कार्ड बनाने का काम करते थे। वही साइबर क्राइम टीम ने इनके कब्जे से भारी मात्रा में आधार कार्ड, बैंक पासबुक, 02 लैपटॉप, सीपीयू सहित फर्जी आधार बनाने के उपकरण बरामद किए हैं।

आपको बता दें कि साइबर क्राइम टीम नोएडा को लखनऊ निवासी राम प्रताप सिंह (रिटायर आईपीएस ) ने बीते वर्ष 22 जून को जीनथ नामक ब्रिटिश महिला द्वारा फेसबुक के माध्यम से दोस्ती करके, 1.5 करोड़ रुपये की करेंसी के साथ लखनऊ आने व एयरपोर्ट पर पकड़े जाने की बात बताकर कस्टम, आरबीआई एक्सचेंज, जी एस टी क्लियरन्स ऑफिसर बनकर 8.17 लाख रुपये की ठगी के सम्बन्ध में प्रार्थना पत्र दिया गया। जिसके आधार परमु0अ0सं027/2022धारा406/419/420/467/468/471/120बी व 34 भादवि व 66डी आई0टी0 एक्ट पर पंजीकृत किया गया। जिसका खुलासा करते हुए नोएडा साइबर क्राइम टीम नोएडा ने गैंग के सरगना सहित सात ठगों को गिरफ्तार किया हैं जो नाइजीरियन गैंग को किराये व कमीशन पर बैंक खाते उपलब्ध कराने व फर्जी आधार कार्ड बनाने का काम करते थे।

वही नोएडा साइबर क्राइम टीम द्वारा पकड़े गए ठगों में गैंग का सरगना बदायूं निवासी जाबिर खान उर्फ़ जैकी पुत्र शाबिर खान, राजू सिंह उर्फ मच्छू पुत्र महेन्द्र सिह, जनपद – इटावा निवासी देवव्रत प्रताप सिंह पुत्र प्रमोद सिंह, जनपद – बदायूं निवासी प्रशान्त सिंह पुत्र महिपाल सिंह, नालंदा बिहार निवासी राहुल कुमार शर्मा पुत्र स्व0 सतेन्द्र शर्मा, आरा बिहार निवासी दीपक कुमार गुप्ता पुत्र विजय शाह व समस्तीपुर बिहार निवासी सुमन्त कुमार पुत्र विनोद शर्मा को जनपद – बदायूं, गौतमबुद्ध नगर व नई दिल्ली से गिरफ्तार किया हैं वही इनके कब्जे से भारी मात्रा में आधार कार्ड, बैंक पासबुक, 02 लैपटॉप, सीपीयू सहित फर्जी आधार बनाने के उपकरण बरामद किए हैं। साथ ही इनके बैंकों में जमा आठ लाख सत्तरह हजार रुपये सीज किए हैं

नोएडा साइबर क्राइम थाना प्रभारी रीता यादव ने बताया कि नाइडजीरियन गैंग द्वारा फेसबुक पर फर्जी प्रोफाइल बनाकर भारतीय पुरुषों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर उनसे दोस्ती करके महंगे गिफ्ट व करोड़ों विदेशी करेंसी भेजना बताकर, फर्जी पार्सल स्लिप व अन्य फर्जी बिल बनाकर उनको विश्वास में लिया जाता हैं। एयरपोर्ट पर पकड़े जाने की बात बताकर कस्टम ड्यूटी आरबीआई एक्सचेंज व जी एस क्लिरियांस के नाम पर धोखाधड़ी कर लाखों रुपये विभिन्न बैंक खातों में जमा करा लिये जाते हैं।

उन्होंने बताया कि पकड़े गए ठगों द्वारा अपने सहयोगिओ के साथ मिलकर जनपद बदायूं के गाँव के लोगों से नौकरी दिलवाने के नाम पर नोएडा बुलाकर उनके आधार कार्ड लेकर उन आधार कार्ड पर फर्जी पता दिल्ली एनसीआर क्षेत्र पर बदलकर उस आधार कार्ड की आईडी से बैंक में खाता खुलवातें एंव नया सिम लेते थे। बैंक खाता नम्बर को नाइजीरियन जैक उर्फ आकालेण्डी, जॉन उर्फ उच्चे मेडियन, मैक उर्फ माइकल को मुहैया कराते है। जिसमें धोखाधडी के रुपये आने पर एटीएम से रुपये निकालकर 8 प्रतिशत कमीशन लेकर शेष कैश दिल्ली में नाइजीरियन को खानपुर, महरौली, आईएनए में देते है। खाता धारक को प्रति बैंक खाता 20,000 रु0 देते है। आधार कार्ड पर दिल्ली एनसीआर का पता गुप्ता डॉक्युमेन्ट सेन्टर CRPF कैम्प के पास मयूर विहार फेस-03 नई दिल्ली से बदलते हैं। इस प्रकार अब तक लगभग 500 बैंक खाते नाइजीरियन गैंग को उपलब्ध कराये हैं। और इनके द्वारा अबतक 100 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी किया जाना बताया गया है। आपको ज्ञात होगा कि बीते वर्ष 27 अगस्त को उपरोक्त अभियोग में एक नाइजीरियन अभियुक्त चिब्यूजो क्रस्चियने मबागवु निवासी ओज़ारा , लगोस निगेरिया को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है।